ISP क्या है | Internet Service Provider in Hindi

Internet 1960 के समय से आया हुआ है , और इसे अभी के समय में Internet के structure को समझने के लिए आसान नही है | यह अनेको प्रकार के Wide area network और Local area network से मिल कर बना है, जो अनेको प्रकार के Network devices और Switch से जुड़ा हुआ है |

यदि आप Internet के मूल जड़ को समझाना चाहते है , तो आप इस आर्टिकल को ध्यान से पढ़िए ताकि आपको internet के विस्तार के बारे में पता लग सके |

Internet को सही तरीके से समझना कठनाई बड़ा हो सकता है , क्योकि Network में निरंतर परिवर्तन देखने को मिलता रहा है, जैसे किसी network को शामिल होना , network में लगे हुए IP Address में परिवर्तन या किसी बड़ी Company के द्वारा किसी network को मिटाना आदि |

आज के समय में Internet Service Provider [ISP]के द्वारा internet का उपयोग में लाया जाता है |  वे सभी ISP’s को 4 भागो में बाँटा गया है, जिसे Tier’s भी कहा जाता है |

  1. International Service Provider [Tier – I]
  2. National Service Provider [Tier – II]
  3. Regional Service Provider [Tier – III]
  4. Local Service Provider [Tier – IV]

इन सभी Service Provider’s को एक बड़े स्तर से एक छोटे स्तर पर बाँटा गया है | जिसके माध्यम से Internet का उपयोग सभी छेत्रो में किया जाता है | इन सभी Service Provider’s को जिसे Tier’s में बाँटा गया है , उन सभी को जानने की कोशिस करते है |

Internet Service Provider
Internet Service Provider

International Service Provider [ ISP ]

इसे Internet के सबसे बड़े Service Provider कहा जाता है | इसका काम एक महाद्वीप से दुसरे महाद्वीप तथा एक देश से दुसरे देश में Internet की Service दी जाती है | ये सभी Cables[Fiber’s] के माध्यम से ही संभव है| International service provider को Tier -I  ISP’s कहते है |

इस ISP’s में डाटा के आदान प्रदान की गति सर्वाधिक होती है , क्योकि किसी एक देश का डाटा दुसरे देश में आदान- प्रदान होते रहता है | इसी लिए Fiber’s केबल का उपयोग किया जाता है , एवं सबसे ज्यादा सागर – महासागर के रास्ते से Fiber’s cable के माध्यम से भेजा जाता है , इन cables को Submarine Cable’s कहते है |  

National Service Provider [ NSP ]

किसी भी देश में स्तिथ Companies के द्वारा ही Network को बनाया और सुरक्षित रखा जा सकता है | इसी लिए National service provider’s को Network की रीड की हड्डी भी कहा जाता है | 

उत्तर अमेरिका एवं भारत जैसे देशो में National ISP’s के कंपनी जैसे BSNL, Tata Communications, Sprintlink, PSINet, IJUNet Technology इत्यादि अंतिम उपयोगकर्ता के पास Internet को पहुचाया जाता है |

ये सभी ISP’s किसी अन्य Complex switching stations के द्वारा connected होते है इसी लिए इसे Network Access Points [NAP’s] भी कहा जाता है |

Regional Service Provider

Regional service provider एक तरह के छोटे ISP’s होते है, वे एक या एक से अधिक National service provider से connected होते है | 

यह internet service provider’s की 3 ISP’s में आते है, इसी लिए Tier-III service provider कहा जाता है| इनके मदत से किसी देश से अन्य राज्यों में internet की service provide की जाती है |

Local Service Provider

Local service provider की मदत से internet को अंतिम उपयोगकर्ता के पास पहुचाया जाता है | Local ISP’s किसी Regional ISP’s या National ISP’s से connected होते है | सबसे ज्यादा अंतिम उपयोगकर्ता Local ISP’s से ही Connected होते है |

Local ISP’s के मदत से ही किसी Company, Corporation या organization, school , University को Internet service दी जाती है, इसी लिए इसे Tier-IV कहा जाता है |

Final Words | अंतिम शब्द

आपने internet service provider के बारे में जान गये होंगे , जिससे आप सभी को Internet की मूल संरचना के बारे में समज में आ गया होगा | यही आपको internet service provider के किसी भी प्रकार के सवालो के जवाब चाहते है , तो कृपया Comment कर के पुछ सकते है | Thank You!

ithamu

rdhfggkk  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!