Internet का इतिहास एवं उपयोग|History of Internet

अभी के समय में , हर कोई इंटरनेट का उपयोग करना जान गया है , इंटरनेट का उपयोग दिन प्रतिदिन बढ़ते जा रहा है और इसका उपयोग हर सभी छेत्रो में लगभग हो रहा है । पूरी दुनिया में इन्टरनेट के माध्यम से लोग एक दुसरे के Informations को Share कर सकते है , एवं एक-दुस्र्रे से Communications कर सकते है ।

लेकिन आज हम जानेंगे कि इंटरनेट क्या है, इंटरनेट कैसे बना, और इंटरनेट का उपयोग कैसे किया जा रहा है ।

History of Internet and its Uses
#internet-Ithamu.com

इन्टनेट क्या है | What is Internet ?

  Internet एक बहुत ही बड़ा नेटवर्क है, ये नेटवर्क छोटे -छोटे नेटवर्क से बना है , इंटरनेट का मतलब International Network of Computer है। दुनिया भर में अनगिनत कंप्यूटर एवं नेटवर्क एक-दूसरे से जुड़े हुए हैं।

        इसलिए आप कंप्यूटर के एक क्लिक से दुनिया के किसी भी प्रकार के ज्ञान और जानकारिया को प्राप्त कर सकते है , तथा इसके माध्यम से किसी से संपर्क कर सकते है । इंटरनेट के मदत से दुनिया छोटी हो गई है ।

Internet की शुरुवात 1960 में हिई थी एवं Internet के पिता Vint Curf  को कहा जाता है । इंटरनेट के शुरुवात में यह एक छोटा सा ही नेटवर्क था, पर समय ने इसे Internet बना दिया।

दुनिया के Scientist और Engineers ने Computer Network के ऊपर रिसर्च करके इस नेटवर्क को एक विशाल रूप दे दिया है, और समय के साथ इसका दायरा बढ़ता ही जा रहा है, जैसे जैसे Technology बढ़ रही है वैसे ही Internet के उपयोग में वृद्धि हो रही है ।

Technology के वजह से आज एक छोटे से डिवाइस  [Mobile Phone, Smart watch, small chips.etc] में भी इन्टरनेट का उपयोग किया जा रहा है।

इंटरनेट का इतिहास । History of Internet

इस आधुनिक नेटवर्क 1960 में शुरू किया गया था। 1962 में, जे.सी.आर. MIT Licklider ने इस नेटवर्क के लिए DARPA नाम का एक संगठन बनाया, जिसे Defense advanced research projects Agency कहा गया| उन्होंने कंप्यूटर का एक नेटवर्क बनाया, जिसे “इंटरगैलेक्टिक नेटवर्क” नाम दिया गया।

इस नेटवर्क के माध्यम से Defence को एक दुसरे से जोड़ना था | इसे नेटवर्क को DARPA अधिकारियों विंट सेर्फ़ और बॉब कहन ने TCP / IP (Transmission Control Protocol / Internet Protocol ) बनाया गया ताकि दो कंप्यूटर एक दुसरे से जोड़ा जा सके और इन दोनों को इंटरनेट प्रोटोकॉल के पिता कहा जाता है।

1973 में “बॉब मेटकाफ” ने Ethrnet Cable बनाई। ताकि कंप्यूटर के Digital Bits को इलेक्ट्रॉनिक सिग्नल में Convet हो कर एक दुसरे से जुड़ सके । जिसके मद्त से TCP / IP प्रोटोकॉल कारण कंप्यूटर के मध्य में संचार हो सके, यह दो कंप्यूटर के बिच में उपयोग किया गया था |

DARPA (डिफेंस एडवांस रीसेरेन्स प्रोजेक्ट एजेंसी) का नाम हटा कर इसे ARPANET (Advance Research Projects Agency Network) रख लिया गया । जिसके मदत से इसे University एवं Defence को जोड़ा गया |इस नेटवर्क का उपयोग केवल एक सीमा तक था |

इस नेटवर्क को सबसे पहले University of California और University of UTAH को एक दुसरे से जोड़ा गया था ताकि Information Share कर सके और Defence को एक दुसरे से Connect किया गया, जिसके माध्यम से एक-दुसरे से Communications कर सके |

1980 में इस Network को NSF [National Science Foundation] को सौप दिया गया | जिसमे Scientist और Engineers ने मिलकर इस नेटवर्क की speed और Network की Capacity को बढाया गया | लेकिन NSF इस भी इस नेटवर्क को University एवं Defence के लिए रखा गया |

इस Network को लोगो तक पहुचाने के लिए ARPANET (Advance Research Projects Agency Network) और NSF [National Science Foundation] मिलकर काम करने लगे | इंटरगैलेक्टिक नेटवर्क को Internet बना दिया गया |

Scientist और Engineers ने कंप्यूटर नेटवर्क के ऊपर रिसर्च करके इस नेटवर्क को एक विशाल रूप दे दिया गया | जिसमे Information’s sharing में तेजी आने लगी और अनेको servers को बनाया गया जिसके मदत से  सामान्य लोगो के लिए Internet का द्वार खुल गया |

Internet कैसे काम करता है | How Internet Works

Internet को सामान्य लोगो तक पहुचाने के लिए सभी देशो को एक दुसरे से कनेक्ट होना था, जिसमे सबसे ज्यादा नेटवर्क की speed को बढ़ाना था| इस नेटवर्क के speed को बढ़ाने के लिए भारतीय वैज्ञानिक Narinder Singh Kapany ने Fiber Opticals का अविष्कार किया गया | जिससे मदत से Light की speed से Informations को शेयर किया जा सके |  

Fiber Opticals Cable की सहायता से Light की speed से Informations का आदान प्रदान में तीव्रता आ गयी है | ISP [Internet Service Provider] की सहायता से दुनिया के सभी देशो को Internet के माध्यम से कनेक्ट करने के लिए इसे TIER में बनाया गया है |

TIER-1 :-

यह एक सबसे महत्वपूर्ण Tier है, इसमें एक देश को दुसरे देश के साथ Connect की जाती है | समुद्र और महासागरो के अन्दर Cables को बिछा के अनेको देशो को एक-दुसरे के साथ connect की जाती है | इन cables को ” Submarine Cablesकहा जाता है | इस के अन्दर Fiber Opticals Cable होते है |

Ex- At & T[United States , TATA Communications [India], Seabone [Italy].

TIER-2 :-

जब किसी देश Submarine Cables आती है, उसे देश के अनेको राज्यों को एक दुसरे से Connect किया जाता है |भारत में Tier 2 के Company है |

Ex- Airtel, Jio, BSNL, Hathway etc

TIER-3 :-

इस Tier में राज्य से शहरो को जोड़ा जाता है, जैसे की हम लोगो को internet मिल रहा है | इसमें कुछ Comapny है |

Example – Airtel, Jio, BSNL, Hathway etc

इन सभी Tier को मिलाकर हमे internet की सुविधा मिलती है | ये सभी TCP /IP प्रोटोकॉल के द्वारा काम में लिया जाता है |

Information on The Internet

Internet में अनेको प्रकार के जानकारिया उपलब्ध है , जिसके माध्यम से अपने ज्ञान की वृद्धि आसानी से कर सकते है |internet का उपयोग आपके हाथो में की आप इसका उपयोग किस प्रकार करते हो |internet में किसी भी प्रकार के जानकारिया को आप Mobile, Tablets, Computers या Personal Computer [PC] को internet से जोड़ कर आसानी से प्राप्त कर सकते है |

आज के समय में किसी भी प्रकार की जानकारियो का पता लगाना आसन हो गया है । बस आपको कुछ नही करना है, जो चीज के बारे में जानकारिया चाहिए बसउसे लिखना है और उससे Related जानकारिया आपको मिल जाएगी । आज के समय कोई भी व्यक्ति बोल के लिख के भी किसी चीज के बारे में

जिससे की जानकारियों का भंडार है, इन्टनेट कई प्रकार के Webserver, Dataserver, Mailserver, Proxyserver, Ftpserver, आदि अनेको प्रकार के सर्वर्स के साथ मिल कर बना है,  और उपयोग बड़े पैमाने में किया जाता है, इन्टरनेट के डाटा स्टोर का कोई अंत नही है, और इन्टरनेट अनेको प्रकार के नेटवर्क मिल के बनने के कारण इन्टरनेट कभी बंद नही हो सकता है । और इन्टरनेट से मिलने वाले जानकारियों का अभी अंत नही हो सकता ।

इन्टरनेट के उपयोग

इन्टनेट के जरिये Technology में काफी बदलाव हुआ है, आज के समय में इंटरनेट का उपयोग अनेको छेत्रो में किया जाने लगा है, जो निम्नलिखित है ,

 

क्या सिखा ?

आज हम ने Internet के बारे में जाना और उसके इतिहास के बारे में जाना | हमारे घर तक internet की सुविद्या कैसे मिलती है और कितने ISP के माध्यम से हमारे शहरो या गाँव तक Internet की Line आती है | Internet के माध्यम से हमे अनेको प्रकार के ज्ञान ले सकते है , इसको गलत कामो के लिए उपयोग न करे |

Thank You !

ithamu

rdhfggkk  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!